उत्तर पश्चिम घर का वास्तु : जाने महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स

जीवन में दिशाओं के महत्व को कम नहीं किया जा सकता है। एक स्वस्थ, सफल और खुशहाल जीवन के लिए सही दिशा का चयन करना महत्वपूर्ण है, चाहे वह कॅरियर मार्ग हो, सड़क हो, या कोई ज़मीन का टुकड़ा हो। जब कॅरियर की राह तय करने की बात आती है, तो लोग अपने हितों, भविष्य, संभावनाओं और अन्य चीजों पर विचार करते हैं। जब हम किसी रोड ट्रिप के बारें में योजना बनाते हैं तो सही दिशा चुनने से हम अपने गंतव्य तक बड़ी आसानी से पहुंचेंगे। अन्यथा, आप खो जाएंगे। आखिर क्यों अच्छे जीवन जीने या सुखी ज़िन्दगी के लिए सही दिशा मे संपत्ति लेना ज़रूरी है? यह कहा जाता है कि यदि भूखंड या संपत्ति का मुख और दिशा अनुकूल है, तो जीवन में सफलता, पूर्णता और खुशी प्राप्त करने की अधिक संभावना होती है। उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम की चार प्रमुख दिशाओं के अलावा, कई अन्य महत्वपूर्ण दिशाएं हैं। उत्तर पश्चिम को रचनात्मकता, भाग्य, समृद्धि और सामाजिक प्रतिष्ठा की दिशा माना जाता है। यह दिशा चंद्रमा द्वारा शासित होती है, जिसका प्रभाव घर पर पड़ता है जिसके बारें में बात करना बहुत जरूरी है। । वास्तु शास्त्र के अनुसार,अगर घर का निर्माण वास्तु के अनुसार न हो तो आपके गृह का स्वामी आपके जीवन मे तनाव पैदा कर सकता है।


उत्तर पश्चिम दिशा मे घर द्वारा पॉजिटिविटी बढ़ाएं

  • उत्तर पश्चिम वायु तत्व से जुड़ा है, जो कलह और झगड़े का कारण बनता है जो बातचीत और संबंधों को खराब करता है। इसी तरह, करीबी दोस्तों और परिवार से ईर्ष्या धैर्य और मधुरता को प्रभावित करता है।
  • उत्तर पश्चिम दिशा का के स्वामी वायु देव हैं। अब इसे कैसे आप इस्तेमाल करते हैं इसके आधार पर इस दिशा मे रहने वाले लोग धनी या गरीब बनते हैं। वायू देव , जिन्हे उत्तर पश्चिम दिशा का देवता भी कहते हैं , सद्गति देने के लिए जाने जाते हैं।
  • वायु पृथ्वी के अस्तित्व के लिए एक अनिवार्य घटक है। परिवार में महिलाओं के लिए, उत्तर दिशा सबसे उपयुक्त मानी जाती है क्योंकि ऐसी दिशा के घरों मे रहनी वाली महिलाएं प्रसिद्धि और विकास कर सकती हैं। महिलाएं अगर इस दिशा का उपयोग सही तरीके से करें तो उनका विकास निश्चित होता है।
  • सर्वशक्तिमान वायु का सीधा सम्बन्ध भ्रूण के निर्माण, उसके विकास और महिला के आसान प्रसव (अजन्मे वंश) से संबंधित है।
  • उत्तरपश्चिम दिशा मे रहने वाले लोग हमेशा विस्तार में लगे रहते हैं , और बड़े एक्टिव रहते हैं। में कोई भी विस्तार लोगों को हर समय चलायमान रखता है। नॉर्थवेस्ट का विस्तार पूर्वोत्तर, या ईशान्य को छोटा कर देता है और ये अशुभ है।
  • ऐसे लोग अत्यधिक खर्चीले हो सकते हैं, जिससे उन्हें धन की भी हानि हो सकती है ,उनका रवैया अत्यधिक महंगा है, इस दिशा में, गड्ढों, जलाशयों और पानी के भंडारण अलगाव पैदा करेंगे। जब उत्तर पश्चिम दिशा को सही तरीके से उपयोग किया जाता है, तो धन, स्वास्थ्य, लंबा जीवन, फिटनेस, गरिमा और सरकारी सहायता लाता है।

उत्तरपश्चिम मुखी घर के लिए वास्तु योजना

जीवन में धन, वैभव और सफलता के लिए नीचे दी गयी वास्तु संबंधित बातों का विशेष ख्याल रखें-

  • अगर परिवार में कोई सदस्य बढ़ा है तो नवविवाहित जोड़े के लिए और छोटे बच्चों के लिए उत्तर पश्चिम दिशा का बैडरूम काफी उपयुक्त होता है।
  • उत्तर पश्चिम दिशा में घर खरीदते समय ध्यान रखें कि उत्तर दिशा की सड़क पश्चिम की ओर जानी चाहिए और पश्चिम की सड़क रुकी हुई होनी चाहिए। इस से वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित होगी।
  • यदि उत्तर की सड़क बंद है और पश्चिम की सड़क खुली है, तो ऐसी जगह पर संपत्ति खरीदने से बचें।
  • यदि उत्तर और पश्चिम सड़क उपलब्ध हैं, तो पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण दिशाओं में देखें।
  • यदि घर के दक्षिण और पश्चिम की तरफ खुले स्थान अन्य दिशाओं की तुलना में बहुत ज्यादा है, तो ऐसे घर में रहने से बचना चाहिए।
  • जो लोग ऐसे घरों में रहते हैं वे प्रसिद्धि और अच्छी प्रतिष्ठा प्राप्त करने की अधिक संभावना रखते हैं और अच्छी बुद्धि वाले होते हैं। साथ ही उनके और उनके बच्चे भी बुद्धिमान होते हैं।

क्या आपका घर वास्तु शास्त्र पर आधारित है?
हमारे विशेषज्ञों से बात करें


अकसर पूछे जाने वाले सवाल(FAQs)

क्या उत्तर पश्चिम घर अच्छा होता है ?
उत्तर पश्चिम दिशा के मुख वाले घर बहुत बुरे नहीं होते हैं। जब अन्य वास्तु के नियमों के साथ जोड़ा जाता है, तो यह स्वास्थ्य, धन और समृद्धि प्रदान करते हैं। पर ऐसा संभव है कि अगर मुख्य द्वार पश्चिम दिशा की और हो तो घर के सबसे प्रमुख पुरुष सदस्य को अधिक समय तक घर से बाहर रहना पड़ सकता है और यदि दरवाजा उत्तर की ओर है, तो प्रमुख महिला सदस्य अधिक समय तक घर से बाहर रह सकती है।

उत्तर पश्चिम दिशा में क्या रखा जाना चाहिए?
नॉर्थवेस्ट मेहमानों और ड्रॉइंग रूम कि व्यवस्था के लिए बहुत ही असाधारण भाग है, इसीलिए इस दिशा में हमेशा ही ड्राइंग रूम होना चाहिए। यह कोना सामान रखने के लिए एक उपयुक्त स्थान होता है जो सक्रियता को बढ़ाता है और देरी होने से रोकता है।
इसके अलावा, उत्तर-पश्चिम कोने को अस्त -व्यस्त नहीं रखना चाहिए और उस कोने को अवरुद्ध भी नहीं किया जाना चाहिए, ख़ास तोर पर वहां कोई धातु की वस्तु या कचरा नहीं होना चाहिए नहीं तो इस से प्रशासनिक और कानूनी अड़चने आ सकती हैं।

उत्तर पश्चिम प्लॉट कैसा होता है?
यदि संपत्ति का रास्ता सही दिशा या कोने में है, तो संभव है कि इस दिशा की प्रॉपर्टी, या घर आप को दैनिक जीवन में समृद्धि, संतुष्टि और खुशी प्रदान करेगी। उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम के अलावा भी दिशाएं होती हैं और उनका भी जीवन पर प्रभाव होता है।
उत्तर पश्चिम दिशा को कला, कर्म, सिद्धि और साझेदारी का कारक माना जाता है। चंद्रमा, जो विचारों का स्वामी ग्रह है इस दिशा के स्वामी हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, यदि घर वास्तु शास्त्र के नियमों के अनुसार नहीं बनाया गया है, तो दिशा के स्वामी उस कोने में तनाव और अशांति पैदा करते हैं।


निष्कर्ष

उत्तर पश्चिम दिशा का वास्तु ज्ञान हमें बताता है की ये दिशा सकारात्मक तो है पर इस दिशा के नकारात्मक पहलू भी देख लेना चाहिए। वास्तु दोष जो भी हों, उत्तर-पश्चिम दिशा के घरों के लिए सुझाए गए वास्तु उपाय निश्चित रूप से इसे सही करेंगे। बस कोई भी कदम उठाने से पहले किसी अच्छे वास्तु विशेषज्ञ से सलाह लेना याद रखें।