वास्तु टिप्स के अनुसार बनाएं अपने घर का बैकयार्ड

बैकयार्ड अर्थात घर के पीछे का खाली हिस्सा। इसे ही बैकयार्ड के नाम से जाना जाता है। कई लोग बैकयार्ड में वास्तु को महत्व नहीं देते है। लेकिन वास्तु शास्त्र में इसके लिए भी नियम हैं , जिनके आधार पर हमें बैकयार्ड कैसा रखना है, यह बताया गया है। अक्सर लोग समझते हैं, कि घर के बाहर या फिर पीछे की जगह के हिस्से में कोई वास्तु का महत्व नहीं होता है। आपके जीवन में समग्र सफलता और खुशी के लिए घर का हर हिस्सा, चाहे अंदर हो या बाहर मायने रखता है। आप कुछ भी छोड़ नहीं सकते हैं, यह वास्तु शास्त्र की विशेषता है।

तेजी से बदलती जीवन शैली के रूप में आजकल बहुत कम लोग गृह निर्माण में वास्तु को महत्व देते हैं। जबकि यह अनुचित है। वास्तुशास्त्र भी एक तरह का विज्ञान है। जो लोग अपनी सुविधानुसार घर का निर्माण करते हैं, तो उनको एक बार वास्तु के हिसाब से भी कोशिश करना चाहिए। यह खुशहाल जीवन के लिए काफी महत्वपूर्ण है। वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि यदि घर के पीछे बैकयार्ड नहीं बनाया जाए, तो यह भी आपके स्वास्थ्य पर काफी प्रभाव डालता है। साथ ही अन्य जटिलताएं पैदा हो सकती हैं। कोई बड़ा घर बना रहे हैं, तो यह आपको बड़ी सावधानी के साथ बनाना चाहिए, क्योंकि यह आपके परिवार के सदस्यों को स्वास्थ्य से जुड़ा है।

वास्तु अनुरूप घर का निर्माण कैसे करें? विशेषज्ञों से सलाह लें।


बैकयार्ड का निर्माण करते समय बातों का ध्यान रखें

वास्तु सिद्धांतों के अनुसार बैकयार्ड का निर्माण करते समय आपको कुछ महत्वपूर्ण टिप्स याद रखने चाहिए:

  • वास्तु शास्त्र के अनुसार बैकयार्ड का निर्माण पूर्व या उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए।
  • वास्तु शास्त्र में उत्तर और पूर्व की दिशाओं को शुभ माना गया है। इसलिए इन दिशाओं में कोई भी खुला स्थान भाग्य और अच्छे परिणाम को दर्शाता है।
  • यदि आपका घर पश्चिम की ओर है, तो आपको अपने बैकयार्ड का निर्माण पूर्व की ओर करना चाहिए। क्योंकि यह निवासियों के लिए बहुत अच्छा होगा। साथ ही इस बात का भी विशेष ध्यान रखें कि प्रवेश द्वार या पश्चिम में कोई स्थान खाली न छोड़ें।
  • पश्चिम की ओर मुख वाले घर के लिए कभी भी सामने की ओर खुला स्थान न रखें, क्योंकि यह परिवार के सदस्यों के जीवन पर भी बुरा प्रभाव डालता है।
  • दक्षिण मुखी घर के लिए उत्तर की ओर बैकयार्ड रखना अच्छा होगा। लेकिन, सुनिश्चित करें कि आप दक्षिण दिशा में सामने कोई भी खाली स्थान न छोड़े। क्योंकि यह स्थान नहीं है, इसलिए सतर्क रहें।
  • यदि बैकयार्ड गलत दिशा में है, तो मानसिक तनाव, स्वास्थ्य, शत्रुता और वित्तीय समस्याएं बढ़ सकती हैं।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार, बैकयार्ड के लिए सबसे अच्छा स्थान केवल पूर्व और उत्तर की ओर है। आपको केवल इन दो दिशाओं में निर्माण करना चाहिए और पश्चिम और दक्षिण से बचना चाहिए।

अपनी सभी वित्तीय परेशानियों पर काबू पाने के लिए विशेषज्ञों से बात करें!


बैकयार्ड निर्माण में इन बातों को नजरंदाज करें

जैसा कि आपको बताया गया है कि बैकयार्ड के निर्माण के समय आपको किन दिशाओं का ध्यान रखना चाहिए। आइए अब हम आपको बताते हैं कि आपको किन बातों का पालन नहीं करना है:

  • बैकयार्ड में धातु और प्लास्टिक से बने फर्नीचर का उपयोग न करें।
  • पश्चिम और दक्षिण दिशा में कभी भी बैकयार्ड नहीं बनाया जाना चाहिए, यह एक सख्त संख्त संदेश है, आपको इसका पालन करना चाहिए।
  • बैकयार्ड में कभी भी व्यर्थ सामग्री न रखें। वास्तु शास्त्र में इसे बहुत बुरा शगुन माना जाता है।
  • कभी भी जगह-जगह चीजों को न रखें, जिससे हवा का प्रवाह न हो। चारों ओर हवा बहने के लिए खाली स्थान होना चाहिए।
  • बैकयार्ड में बड़े पेड़ लगाने से बचना चाहिए।

घर के निर्माण के बाद बैकयार्ड बनाते समय इन बातों का आपको विशेषकर ख्याल रखना चाहिए। अगर आप ऊपर दी गई बातों का ध्यान रखते हैं, तो आपके जीवन में कभी भी खुशियों का अभाव नहीं होगा। अगर इन बातों को नजरअंदाज करते हैं, तो आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

वास्तु संबंधी किसी भी परेशानी के लिए, विशेषज्ञों से परामर्श लें