होटल तथा रिसोर्ट बिजनेस के लिए वास्तु टिप्स (Vastu for Hotel)

हॉस्पिटैलिटी सेक्टर को उसकी बेस्ट सर्विसेज तथा कन्ज्यूमर्स को पूरी तरह से आराम उपलब्ध करवाने के लिए जाना जाता है। यदि एक होटल या रिसोर्ट को पूरी तरह से वास्तु के अनुकूल बनाया जाए तो वहां आने वाले विजिटर्स खुद को रिलेक्स और कंफर्टेबल फील करेंगे और इससे उस होटल या रिसोर्ट की पब्लिसिटी होगी और वहां के संचालकों को अच्छा मुनाफा होगा।

इन दिनों हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में होटल बिजनेस काफी ग्रोथ कर रहा है। कई नए स्टार्टअप इस सेक्टर में मोटा प्रॉफिट कमा रहे हैं। परन्तु एक अच्छे होटल या रिसोर्ट को बनाना और फिर उसे लंबे समय तक चलाना एक कठिन कार्य है जिसमें कई तरह की परेशानियां सामने आती हैं। कई तरह के जोखिम होते हैं जिनके चलते आपको आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। निस्संदेह ऐसी स्थिति में आपका मोटा इन्वेस्टमेंट खतरे में पड़ सकता है और प्रॉफिट के बजाय हानि हो सकती है।

कहा जाता है कि दुनिया में अगर कोई समस्या है तो उसका समाधान भी है। इसी तरह होटल इंडस्ट्री के लिए वास्तु एक वरदान की तरह है। यदि आप अपनी बिल्डिंग को वास्तु के अनुसार बनाएं तो इन सभी समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। वास्तु शास्त्र एक प्राचीन भारतीय विद्या है जिसे बिल्डिंग्स की डिजाईनिंग, लेआउट तथा स्ट्रक्चरल इन्फ्रास्ट्रक्चर बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है। भवन निर्माण से जुड़ी हर स्टेप पर वास्तुशास्त्र के नियमों का पालन किया जाता है।


होटल एवं रेस्टोरेंट के लिए वास्तु टिप्स


होटल तथा रेस्टोरेंट की डिजाईन और लेआउट में वास्तु का महत्व



Choose Your Package to Get 100% Cashback On First Consultation