कन्या पुरुष और कन्या महिला की अनुकूलता

दो कन्या राशियों के बारे में यदि आप यहां पर पढ़ने के लिए आए हुए हैं, तो इस बात की पूरी संभावना है कि आप स्वयं भी कन्या राशि से नाता रखते हैं या फिर आप किसी ऐसे कन्या राशि वाले को जानते हैं, जो कि आपके लिए बहुत ही अनुकूल हैं। नहीं तो आप यहां बिल्कुल भी नहीं होते।

अब जब कन्या राशि वालों के बारे में हम यहां बात कर ही रहे हैं, तो आपको कन्या राशि वालों से संबंधित एक महत्वपूर्ण बात जान लेनी चाहिए, जो यह है कि कन्या राशि वालों में किसी की बात को गुप्त रखने का एक बड़ा ही वफादारी वाला गुण होता है। वे इतने वफादार होते हैं कि उनकी इसी प्रवृत्ति की वजह से इस पृथ्वी ग्रह पर वे सबसे अच्छे प्रेमियों में गिने जाते हैं। इस बात से कोई भी फर्क नहीं पड़ता कि आप किस तरह की परिस्थितियों से गुजर रहे हैं। आपके कन्या राशि वाले हमेशा आपके पीछे खड़े रहकर आपकी पीठ थपथपाते रहेंगे। यदि आप कन्या राशि वालों के बारे में और विस्तार से जानना चाहते हैं, तो यह जगह आपके लिए पूरी तरह से उपयुक्त है।


कन्या राशि वालों की प्रकृति (Nature of a Virgo)

कन्या राशि वालों के बारे में यहां हम चर्चा कर रहे हैं, तो जाहिर सी बात है कि सबसे पहले उनके स्वभाव के बारे में जान लेना उचित होगा। कन्या राशि वाले लोग दूसरों की मदद करने की हमेशा इच्छा रखते हैं। वे बड़े ही सामाजिक होते हैं। साथ ही उनका स्वभाव बड़ा ही मिलनसार होता है। वे हमेशा सहयोगात्मक रवैया रखते हैं और मदद करने के लिए तैयार रहते हैं। उनके पास कमाल की बुद्धि होती है, जिसे समस्याओं को सुलझाने के लिए वे हमेशा प्रयोग में लाते हैं। इसके अलावा उनके पास संसाधन इतने प्रचुर मात्रा में मौजूद होते हैं कि किसी भी तरह की समस्या का समाधान निकालने में वे इन्हें इस्तेमाल में ले आते हैं। कन्या की विपरीत राशि मीन है, जो कि आध्यात्मिक मार्गदर्शन को प्राप्त करते हुए जिंदगी में आगे बढ़ती है और इसी के मुताबिक जिंदगी में सभी तरह के कार्यों को पूरा करती है। वहीं, कन्या राशि वाले पूरी तरीके से व्यावहारिक होते हैं और व्यावहारिक स्तर पर ही वे किसी की भी मदद करना चाहते हैं। ये कन्या राशि वाले पृथ्वी संकेत हैं। हमेशा इनके द्वारा उपलब्ध कराए जाने वाले समाधान पूरी तरीके से व्यवहारिक होते हैं। जो प्रणालियां बिगड़ चुकी हैं या जिनका लय टूट चुका है, इनका लक्ष्य होता है कि वे इनमें सुधार लेकर आएं। ये बहुत ही अच्छे शिक्षक बन सकते हैं। ये एक अच्छे चिकित्सक भी बन सकते हैं। संपादक बनना भी इनके लिए संभव होता है। साथ ही ये संगीतज्ञ भी बन सकते हैं। वह इसलिए कि इनके अंदर कमाल की प्रतिबद्धता होती है। कठिन परिश्रम करने से ये कभी भी पीछे नहीं हटते हैं।


कन्या पुरुष और कन्या महिला: जुड़ाव की प्रकृति (Virgo Man and Virgo Woman: Nature of Bonding)

ऐसा वातावरण जहां कि भरोसे का माहौल हो, जहां कि वफादारी की मौजूदगी हो, जहां ढेर सारा प्यार भरा हो, यहां एक कन्या पुरुष और कन्या महिला एक-दूसरे के साथ बढ़िया सामंजस्य बैठा कर रहते हैं। कन्या राशि चक्र की छठी राशि है और बुध ग्रह इसका स्वामी है। कन्या राशि वालों की खासियत उनकी ईमानदारी है। तथ्यों के साथ ये अपनी बातों को रखते हैं। ये गंभीर दिमाग वाले भी होते हैं। साथ ही ये ऐसे लोग होते हैं, जिन पर आप न केवल सबसे ज्यादा भरोसा कर सकते हैं, बल्कि आप जिन पर काफी हद तक निर्भर भी हो सकते हैं। इसकी वजह यह है कि ये पृथ्वी के तत्व का प्रतिनिधित्व करते हैं।

कन्या महिलाओं के साथ कन्या पुरुषों में भी बहुत से ऐसे लक्षण मौजूद होते हैं, जो वास्तव में आदर्श नहीं होते। कोई बात नहीं भी हो, तब भी ये दोनों लगातार चिंता में डूबे रहते हैं। किसी भी फालतू तरह की बातों को ये उखाड़ कर सामने ले आते हैं और इसकी वजह से ये हमेशा अपने आपको परेशान करते रहते हैं। जो चीजें इन्हें लगातार परेशान कर रही हैं या जिनकी वजह से इनकी जिंदगी की शांति खो हो गई है, उन चीजों पर काबू पाना और उनसे निबटना बिल्कुल भी इनके बस में नहीं होता है। ये जो बार-बार किसी चीज के बारे में सोचते हैं, अपने इस तरह से सोचने की वजह से छोटी-छोटी बातों पर ये खुद को ऐसी हालत में पहुंचा देते हैं, जहां कि इन्हें दर्द से तड़पना पड़ता है। अपनी चिंताओं के ये गुलाम हो जाते हैं। ज्यादातर वक्त ये अपने आपके प्रति बड़े ही कठोर रहते हैं।

कन्या पुरुष और कन्या महिला इन दोनों का ही स्वभाव बड़ा ही भावुक होता है। अपने इसी भावुक स्वभाव की वजह से ज्यादातर ये अपने आपको बड़ी ही कठिन परिस्थितियों में डाल देते हैं। यदि ठीक तरीके से किसी चीज के बारे में इनके बीच बातचीत नहीं हो पाए या ये चीजों को एक-दूसरे को समझा नहीं पाएं तो ऐसे में एक-दूसरे के प्रति इनमें अविश्वास भी पैदा हो सकता है। एक-दूसरे को दरअसल ठीक से चीजें समझा नहीं पाने की वजह से इनके बीच गलतफहमियां पैदा हो जाती हैं, जिसकी वजह से कई बार इनके रिश्ते में दरार आने की आशंका बढ़ जाती है।

ज्योतिष मार्गदर्शन की मदद से बिताएं एक सुखी प्रेम जीवन

हमारे ज्योतिषियों से परामर्श लें सिर्फ रु. 1/मिनट में


कन्या पुरुष और कन्या महिला: प्रेम प्रसंग (Virgo Man and Virgo Woman: The Love Affair)

कन्या महिला और कन्या पुरुष के बीच की अनुकूलता के बारे में अब जब हम बात कर रहे हैं, तो आपको बता दें कि एक-दूसरे के साथ इन दोनों का बंधन बहुत ही महान होता है। एक-दूसरे के साथ ये अच्छी समझ विकसित कर लेते हैं। यही कारण है कि ये एक-दूसरे के लिए काफी अनुकूल होते हैं। एक पहलू जिस पर ये दोनों ज्यादा मजबूत नहीं होते, वह है अंतरंगता का पहलू। एक कन्या पुरुष और एक कन्या महिला के बीच जो शारीरिक अंतरंगता होती है, उसकी वजह से इनका रिश्ता थोड़ा जोखिम में पड़ जाता है। ऐसा इसलिए होता है कि इनमें से कोई भी एक अद्भुत यौन जीवन का आनंद नहीं उठा पाता है। इसकी वजह यह है कि बिस्तर में अच्छा प्रदर्शन करने का इनके ऊपर दबाव रहता है, जिसकी वजह से अंतरंग होने की कोशिश में इन्हें काफी परेशानी होती है। जी हां, एक कन्या पुरुष के लिए रिश्ते में सब कुछ स्पष्ट और सीधा होता है।

कन्या पुरुष और कन्या महिला के बीच जो मेल होता है, वह काफी व्यवहारिक तरीके का होता है। इनके रिश्ते में छोटे-छोटे पहलू भी बहुत ही मायने रखते हैं। इन पर इनकी बारीकी से नजर होती है। ये भावनात्मक बंधन से जुड़ीं सारी चीजों पर गौर फरमाते हैं। ये एक-दूसरे के विचारों को साझा करते हैं। साथ ही जिस भी बातचीत में ये खुद को शामिल कर रहे हैं, उनका भी विश्लेषण करते हैं। इनकी हमेशा कोशिश रहती है कि सभी चीजों का ये हिसाब लगाकर रखें। हिसाब लगाने के बाद एक बार जब इन लोगों को सारी चीजों का जवाब मिल जाता है, तो इनमें से हर चीज पर ये बल देना शुरू कर देते हैं। चीजों के बारे में ज्यादा सोचने की वजह से ये परिस्थिति को और भी बिगाड़ देते हैं।

कन्या राशि वाले जातकों के पास वास्तव में कमाल की बुद्धिमता होती है। चाहे किसी भी तरह की परिस्थितियां हों, इनके आसपास जो चीजें मौजूद होती हैं, इन सभी चीजों में खुद को शामिल करके ये गहन तरीके से विश्लेषण करते हैं। तर्क इनकी जिंदगी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जब तक ये किसी भी चीज को तर्क की कसौटी पर माप नहीं लेते हैं, तब तक इनकी आत्मा को संतुष्टि ही नहीं मिलती है। तर्क के आधार पर ये किसी भी चीज की प्रकृति का आकलन कर लेते हैं। ये जितने भी काम करते हैं, इनके तर्क द्वारा ये सभी नियंत्रित होते हैं।

इनकी एक प्रवृत्ति यह भी है कि ये हमेशा गलतियां यानी कि दोष ढूंढते रहते हैं। चाहे दूसरों की हो या फिर अपनी, ये छोटी-छोटी चीजों पर बारीकी से नजर डालकर उनमें यह ढूंढने का प्रयास करते हैं कि उनमें कौन सी चीज कम रह गई है। उन गलतियों को ये सामने लाकर रखते हैं। इस वजह से कोई चीज यदि बहुत महत्व की भी होती है, तो उसे भी ये बहुत ही सामान्य बना कर रख देते हैं। इसके कारण जो इनकी रचनात्मक प्रवृत्ति होती है, वह सिमटने लगती है। ऐसा इनके तर्क करने वाले स्वभाव की वजह से होता है। हर वक्त ये चीजों के बारे में तर्क करने के लिए अपने स्वभाव से मजबूर रहते हैं।

बुध का स्वामी ग्रह कन्या पुरुष और कन्या महिलाओं के लिए बड़ा ही मददगार होता है। इसकी वजह से ये स्वाभाविक रूप से बहुत ही लाजवाब कम्युनिकेशन स्किल्स के साथ पैदा होते हैं।

कन्या पुरुष और कन्या महिला, दोनों की ही पहचान ऐसे लोगों के रूप में है, जो काफी अच्छी तरीके से संवाद स्थापित कर सकते हैं। फिर भी जब एक-दूसरे के साथ अंतरंग पलों में शामिल होने की बात आती है, तो इस दौरान दोनों एक-दूसरे के साथ बहुत अच्छी तरीके से संवाद स्थापित नहीं कर पाते हैं। कन्या पुरुष जब बिस्तर में होते हैं, तो फोरप्ले के लिए ये एक बड़ा ही व्यवस्थित या फिर पहले से अभ्यास किया हुआ तरीका इस्तेमाल में लाते हैं। जब ये बिस्तर पर अपने साथी के साथ होते हैं, जो कि उनके सबसे करीबी होते हैं, उस दौरान यदि वे अपनी यौन कल्पनाओं के साथ किसी तरह का प्रयोग करना चाहते हैं, तो यह उनके लिए बहुत ही कठिन हो जाता है।

कन्या पुरुष जब प्यार में डूबे हुए होते हैं, तो अपने साथी को पूरी तरीके से संतुष्ट करने के लिए किसी अन्य तरीके का वे सहारा ले लेते हैं, लेकिन अपनी यौन कल्पनाओं के साथ वे ज्यादा नहीं खेलते या फिर प्रयोग नहीं करते हैं। कन्या पुरुष जब बिस्तर में होते हैं, तो उनके कदमों में एकरसता होती है। वे एक तरह से हावी होकर रहना पसंद करते हैं। यह चीज उन्हें सबसे ज्यादा आरामदायक लगती है। अपने आपको या अपनी स्वयं की आत्मा को संतुष्ट करने के लिए वे यौन कल्पनाओं के अलावा कुछ भी करते हैं। कन्या राशि वालों पर चूंकि बुध ग्रह का स्वामित्व होता है, ऐसे में जो दो कन्या राशि वाले जातकों की जोड़ी होती है, इनके लिए एक-दूसरे के साथ अच्छी तरीके से संवाद स्थापित कर पाना और अपने शारीरिक संबंधों के दौरान महसूस हो रहीं सभी असुविधाओं का हल निकाल पाना एकदम संभव होता है।

समाज किसी चीज के बारे में क्या विचार रख रहा है, समाज किसी चीज के बारे में क्या सोच रहा है, इसे आधार बनाते हुए एक कन्या पुरुष और कन्या महिला अपनी प्रगति को मापते हैं। अपनी कामयाबी का आकलन ये इसी के आधार पर करते हैं। इन्हें ऐसा महसूस होता है कि इन्होंने वास्तव में कामयाबी तभी हासिल की है या इन्होंने प्रगति तभी की है, जब इनका यह विकास समाज की सोच के हिसाब से एकदम आदर्श हो।

खुद को लेकर इनके पास एक ऐसा दृष्टिकोण होता है, जो हमेशा इन्हें यह कहता है कि इस ग्रह पर सबसे अनुपयुक्त या अपूर्ण व्यक्ति यही हैं। ऐसा इसलिए होता है कि ये यह मानते हैं कि समाज के मानकों के हिसाब से ये कभी भी मेल नहीं खा सकते हैं। ये जो मानक होते हैं, इसी को ये अपने लिए पूर्णता की परिभाषा मान लेते हैं। इन सभी चीजों की वजह से कई बार ऐसा होता है कि अपने आपके प्रति ये बेहद कठोर हो जाते हैं। कहने का मतलब यह हुआ कि इनके अंदर खुद के प्रति हीन भावना आ जाती है और ये खुद को जिंदगी की दौड़ में पिछड़ा हुआ महसूस करने लगते हैं।

राशि एक ही समय में स्वभाव से प्यारी और हक जताने वाली भी होती है। क्या यह आपकी तरह है? अभी प्राप्त करें अपनी निःशुल्क जन्मपत्री


कन्या पुरुष और कन्या महिला: समझ का स्तर (Virgo Man and Virgo Woman: Level of Understanding)

देखा जाए तो कन्या पुरुष और कन्या महिला के बीच प्रेम अनुकूलता उल्लेखनीय होती है। ऐसा इसलिए कि कन्या और कन्या की जब जोड़ी बनती है, तो आपस में ये अनोखी पारस्परिक समझ साझा करते हैं। एक-दूसरे को ये बहुत ही अच्छी तरीके से समझ पाते हैं। ये दोनों बहुत ही भावुक होते हैं। यहां तक कि इनकी जो सबसे कमजोर भावनाएं होती हैं, उन्हें भी ये एक-दूसरे के साथ जरूर शेयर करते हैं। जैसे-जैसे इनका रिश्ता पुराना होता चला जाता है, वैसे-वैसे इनके बीच की बातचीत और बढ़ने लगती है। एक-दूसरे के साथ ये और ज्यादा खुलने लगते हैं। इससे एक-दूसरे के साथ अपनी सभी तरह की समस्याओं को शेयर करना इनके लिए आम बात हो जाती है। साथ ही एक-दूसरे की जितनी भी समस्याएं होती हैं, ये साथ मिलकर इनका हल निकालने की कोशिश करते हैं।

कन्या महिला और कन्या पुरुष इस तरह के रिश्ते में होते हैं, जहां पर इन दोनों को यह बात अच्छी तरीके से मालूम होती है कि इनके जो विचार हैं, ये बड़े ही निर्णायक तरह के हैं। साथ ही ये बड़े ही आलोचनात्मक भी हैं। यही वजह है कि कन्या राशि वाले यह कोशिश करते हैं कि ये एक-दूसरे को अपने काम की वजह से या फिर अपने बोलने की वजह से चोट नहीं पहुंचाएं, लेकिन इस प्रक्रिया के दौरान ये खुद को चोट पहुंचाने की कोशिश कर बैठते हैं।

यह जो संबंध ये एक-दूसरे के साथ साझा कर रहे हैं, इनका ये अपने तरीके से विश्लेषण करते हैं और इसके लिए अपना समय भी लेते हैं। इनकी कम्युनिकेशन स्किल काफी अच्छी होती है, जिसे ये दिखाते भी हैं और इसी के जरिए ये अपने सवालों के जवाब भी ढूंढ लाते हैं।

हालांकि, यहां पर इस बात का ख्याल रखना बहुत ही महत्वपूर्ण हो जाता है कि उन चीजों के बारे में ये बिल्कुल भी बात नहीं करते हैं या फिर नहीं बताते हैं, जिससे ये पीड़ित चल रहे हैं। उन मुद्दों का ये बिल्कुल भी जिक्र नहीं करते हैं, जिनकी वजह से इन्हें किसी भी तरह की परेशानी हो रही है। इन सारी बातों को ये अपने अंदर ही दबा कर रखते हैं। इसकी वजह से ये हमेशा रहस्य दबा कर रखने वालों के रूप में जाने जाते हैं। इनका जो यह स्वभाव है, एक रिश्ते के हिसाब से यह बिल्कुल भी स्वस्थ नहीं कहा जा सकता।

कन्या महिला और कन्या पुरुष की विवाह अनुकूलता अच्छी होने की भविष्यवाणी की जा सकती है, लेकिन इसके लिए यह जरूरी है कि अपने रिश्ते में मौजूद नकारात्मक पहलुओं को ये अच्छी तरह से देखें, उनकी पहचान करें और उन्हें ठीक करने के लिए प्रयास भी करें।

जीवन की सभी परेशानियों को समझाएं, अभी डाउनलोड करें MyPandit!


कन्या पुरुष और कन्या महिला: रिश्ते में अधिकता या कमी (Virgo Man and Virgo Woman: Pros and cons in the relationship)

कन्या पुरुष और कन्या महिला के बीच की अनुकूलता काफी उल्लेखनीय होती है और इनका प्रेम जीवन भी बहुत ही अच्छा बना रहता है। बशर्ते कि इनके बीच किसी तरह का कोई कम्युनिकेशन गैप नहीं होना चाहिए।

वल्कन, जो कि एक रहस्यों से भरा हुआ ग्रह है, कन्या राशि पर इसके प्रभाव डालने की संभावना बनी रहती है। वह इसलिए कि इस तरह की मान्यता है कि यह न केवल शक्ति लेकर आता है, बल्कि इच्छाशक्ति और अनुकूलन क्षमता से संबंधित भी बहुत ही सकारात्मक तरंगों को भी लेकर आता है। इससे इन्हें इनकी जिंदगी में जितनी भी बाधाएं या फिर परेशानियां आ रही हैं, इन सभी को दूर करने में मदद मिलती है।

कन्या महिला और कन्या पुरुष दोनों को ही यह बात समझने की बड़ी आवश्यकता होती है कि इन्हें जो समस्याएं हो रही हैं, उनके बारे में बात करना हमेशा ही एक बुद्धिमानी से भरा हुआ और बेहतर विकल्प होता है। खुद में अपनी समस्याओं को लेकर परेशान होते रहना, घुटते रहना और पूरे दिन इसी में उलझे रहना बिल्कुल भी उचित नहीं है। इन्हें यह समझने की जरूरत होती है कि यदि ये अपने मुद्दों या समस्याओं के बारे में सामान्य तरीके से बातचीत करने का निर्णय ले लेते हैं, तो ऐसे में चिंता करने की प्रवृत्ति से ये काफी हद तक खुद को बचा सकते हैं। साथ ही ये घबराहट की चपेट में भी आने से खुद को रोक सकते हैं।

इसलिए जो कन्या राशि वालों की जब जोड़ी बनती है, तो अपने जीवन में हो रही छोटी-छोटी और असुविधाओं के बारे में सोचने से इन्हें बचने की कोशिश हमेशा करनी चाहिए। इन्हें शांत बने रहने और तनाव से मुक्त रहने का भी प्रयास करना चाहिए। इन्हें यह सुनिश्चित करने की भी कोशिश करनी चाहिए कि एक साथ एक सफल रिश्ता बनाने के लिए इन्हें अकेले ही चीजों से परेशान रहने की बजाय एक साथ चीजों को हल करने की भावना विकसित करनी है। साथ ही जीवन भर इसका अनुसरण भी करना है।

इस जोड़ी में इन दोनों को ही हमेशा एक-दूसरे को स्वीकार करने की कोशिश करते रहनी चाहिए। वास्तव में यह हर रिश्ते में बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इस अनुकूलता संबंध में ये कन्या राशि वाले एक-दूसरे के प्रति अधिक सहानुभूति रखने का प्रयास कर सकते हैं। ये एक-दूसरे के साथ काफी विचारशील होने का भी प्रयास कर सकते हैं। इन्हें यह कोशिश करनी चाहिए कि किसी भी चीज को या मुद्दे को ये आगे बढ़ा कर न ले जाएं। जो छोटी-छोटी बातें जिंदगी में सामने आ रही हैं, उन पर बल देने की जरूरत नहीं है। इन चीजों को हल्के में इन्हें लेना चाहिए। आलोचना भी एक ऐसी चीज है, जिन्हें लेकर इन्हें काफी सतर्कता बरतने की जरूरत होती है।

यदि शांतिपूर्ण तरीके से ये अपनी जिंदगी को जीना चाहते हैं और यह भी चाहते हैं कि इनके बीच ज्यादा संघर्ष न हो, तो एक-दूसरे की आलोचना करने से भी इन्हें बचना चाहिए। इन्हें हमेशा इस बात को याद रखने की जरूरत होती है कि कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं है, जो पूर्ण हो। जब ये कोई भी कहते हैं, तो इनके लिए कोई भी का मतलब कन्या राशि वाले भी होने चाहिए।

यदि कन्या पुरुष और कन्या महिला कुछ बातों का अच्छी तरह से ध्यान रखते हैं, तो इनके बीच की अनुकूलता बहुत ही शानदार साबित हो सकती है। इस तरीके से अपने जुड़ाव को और मजबूत और अद्भुत बनाने की दिशा में ये मिलकर काम करते हैं।

कन्या दंपत्ति के बीच जो आपसी समझ होती है, उससे दुनिया में मौजूद किसी भी तरह की नकारात्मकता को ये आसानी से मात दे सकते हैं। इस तरीके से इस प्रक्रिया का पालन करते हुए ये अपने रिश्ते को भी बचा सकते हैं। और हां, कन्या पुरुष या कन्या महिला को डेट करना बिल्कुल भी एक बुरा विकल्प नहीं है। वाकई आप कमाल के हैं कन्या राशि वालों!