कर्क और मिथुन अनुकूलता

वैदिक ज्योतिष ग्रह, नक्षत्रों और राशियों के लौकिक प्रभाव को जानने का एक अचूक माध्यम है। इस विद्या माध्यम से ग्रहों, नक्षत्रों, कुंडली और राशियों के आधार पर लोगों के भूत, भविष्य और वर्तमान का सटीक आकलन किया जा सकता है। किसी व्यक्ति की राशि का प्रभाव उसके स्वभाव, व्यवहार, आचार-विचार और आचरण में साफतौर पर देखा जा सकता है। इसी तरह दो व्यक्तियों के परस्पर संबंधों पर भी राशियों का गहरा प्रभाव देखने को मिलता है। फिलहाल हम कर्क राशि और मिथुन राशि के लोगों के प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन और सेक्सुअल रिलेशनशिप की अनुकूलता जानने का प्रयास करेंगे।

कर्क

22 Jun - 22 Jul

मिथुन

22 May - 21 Jun
दृढ़
हाइली इमेजिनेटिव
लॉयल
पेट्रिओटिक
सिम्पेथेटिक
इंस्पायरिंग
ड्रामेटिक
मानसिक प्रतिभा
क्यूरियस
डिप्लोमेटिक
उत्साही
लाॅजिकल
मजाकिया
बहुमुखी

कर्क – मिथुन लव कंपेटेबिलिटी

कर्क – मिथुन के लव रिलेशन उनके कमिटमेंट पर आधारित होते हैं। सेंसेटिव कर्क के लिए इंटेलेक्चुअल मिथुन से बेहतर कोई साथी नहीं हो सकता है। हालांकि प्रेम संबंधों में कई बार उन्हें परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है, लेकिन वे मिलकर उन्हें हल करने में सक्षम है।

  • मिथुन की फनी नेचर उनके प्रेम संबंधों में प्रारंभिक चिंगारी भड़काने का काम करता है।
  • जब दोनों एक दूसरे को डेट कर रहे होते हैं, तो मिथुन मस्ती से भरा होता है लेकिन कर्क को अपने रिजर्व नेचर से बाहर आने में कुछ समय लग सकता है।
  • कर्क और मिथुन को अपनी लव लाइफ आगे बढ़ाने में कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन एक बार प्यार में पड़ने के बाद वे सभी तरह की समस्याओं पर जीत हासिल करते हैं।
  • कर्क मिथुन को इमोशनल सपोर्ट देते हैं, जो उनकी लव लाइफ को आगे बढ़ाने के काम आता है।
  • कर्क और मिथुन की लव कंपेटिबिलिटी में समय के साथ सुधार होता है और एक समय के बाद वे अपने रिश्तों को अधिक सहज और अनुकूल पाते हैं।

कर्क – मिथुन संबंधों के फायदे

कर्क और मिथुन आपस में अधिक समानताएं साझा नहीं करते हैं। फिर भी वे एक दूसरे के साथ एक सामान्य संबंध स्थापित करने की क्षमता रखते हैं, आइए जानते हैं कि कर्क और मिथुन संबंधों के कुछ लाभ।

  • कर्क और मिथुन दोनों ही मैच्योर राशियां है, जो एक – दूसरे की लाइफ में प्रोग्रेस करने में हेल्प करते हैं।
  • कर्क और मिथुन दोनों ही इंटलेक्चुअल लेवल पर समान क्षमता रखते हैं, इसलिए जब भी रिश्तों में तनाव की स्थिति पैदा होती है वे आपसी समझ से उसे सुलझा लेते हैं।
  • रिश्ते में कर्क और मिथुन नए विचारों को अपनाते हैं और कॅरियर आगे बढ़ने के लिए एक दूसरे का सपोर्ट करते हैं।
  • दोनों को कल्चरल और ट्रेडिशनल चीजें पसंद होती है, जो उनके संबंधों में अधिक अनुकूलता लाने का काम करती है।

कर्क – मिथुन संबंधों के नुकसान

कर्क के लाॅर्ड चंद्रमा है, वहीं मिथुन के स्वामी बुध है, वैदिक ज्योतिष में चंद्रमा और बुध को असंगत माना गया है। जिसका असर हमें कर्क और मिथुन के संबंधों में भी देखने को मिलता है। आइए जानते है, बुध और चंद्रमा का मेल उनके रिश्तों को कितना प्रभावित करता है।

  • मिथुन डोमिनेटिंग होते हैं और शुरू से ही रिश्ते की बागडोर अपने हाथों में रखना चाहते हैं। हालांकि कर्क के साथ होने पर यह संभव नहीं है, जिसे लेकर उनके संबंधों में कड़वाहट देखने को मिलती है।
  • मिथुन में इस बात की समझ होती है कि कर्क इमोशन और सेंसेटिव हैं लेकिन इसके बावजूद वे उन्हें सपोर्ट देने की जगह उनकी फिलिंग्स को हर्ट कर सकते हैं।
  • कर्क और मिथुन को अपने अपोजिट नेचर के कारण भी कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
  • कम्युनिकेशन गेप भी उनके रिश्तों को नुकसान पहुंचाने का काम करती है, कर्क मोस्टली अपनी बातें अपने साथी तक पहुंचाने में नाकाम रहते हैं, जिससे रिश्तों में कड़वाहट पनपने लगती है।

कर्क – मिथुन मैरिज कंपेटेबिलिटी

कर्क और मिथुन एक जीवनसाथी और प्रेमी के रूप में कुछ इमोशन डिफरेंसेस के बावजूद भी अच्छे कपल हो सकते हैं लेकिन उन दोनों को ही अपने इस रिश्ते में बहुत सारा सम्मान और समझ साझा करने की आवश्यकता होती हैं। आइए जानते है कर्क – मिथुन विवाह में कितने कामयाब होते हैं।

  • जिस वक्त कर्क और मिथुन एक – दूसरे की गहरी भावनाओं को समझने लगते हैं, तभी से वे एक दूसरे के साथ अपनी लाइफ बिताने का फैसला कर लेते हैं।
  • जब दोनों के बीच में आपसी विश्वास और सम्मान का निर्माण हो जाता है, तो उन्हे शादी में सामने आने वाली छोटी मोटी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता।
  • मिथुन विवाह के बाद भी लापरवाह हो सकते हैं, लेकिन कर्क उन्हें बार-बार अपनी जिम्मेदारी याद दिलाते रहेंगे।
  • सेंसेटिव कर्क अपने पार्टनर की इंटर्नल फिलिंग्स को सामने ला सकता है। जबकि मिथुन कर्क की भावनाओं को अधिक लाॅजिकल बनाने में उसकी हेल्प कर सकता है।

कर्क – मिथुन सेक्सुअल रिलेशनशिप

जहां तक सेक्सुअल अनुकूलता का सवाल हैं तो कर्क और मिथुन की जोड़ी इस मामले में सभी तरह की अफवाहों को गलत साबित करने की क्षमता रखती हैं। आइए आगे कुछ बिंदुओं के आधार पर इन्हें समझने की कोशिश करते हैं।

  • कर्क – मिथुन सेक्सुअल अनुकूलता में मिथुन बेड पर किसी सक्रिय पार्टनर की भूमिका निभाएगा और रिजर्वड कर्क कुछ ही समय में मिथुन के जुनून और इंटिमेसे सेफ फील करने लगेंगे।
  • मिथुन कर्क की इमोशन एनर्जी को फील करते हुए, गहरे संबंध का आनंद उठाएगें। जब कर्क खुद को अपने पाटर्नर के साथ सेफ फील करते हैं तो वे खुलकर अपनी इंटिमेसी शो करते हैं।
  • बेड पर दोनों ही साथी एक – दूसरे के साथ अधिक से अधिक क्वालिटी टाइम बिताना चाहते हैं। कर्क की इंटीमेसी और मजबूत इमोशनल संबंध मिथुन को रोमांचित और उत्साहित करते हैं।

कुल मिलाकर कहा जा सकता हैं कि कर्क और मिथुन के बीच अनुकूलता का स्तर सामान्य हैं और वे दोनों एक दूसरे के साथ अच्छा और खुशहाल जीवन जीने की संभावना रखते हैं।

Your Zodiac Sign

Your Partner's Zodiac Sign